Desi Sexy Story in Hyderabad Escorts

Vijay Nagar Escorts Call Girls

फोन पर सील तोड़ने का मजा | Hindi Sexy Story Hyderabad Call Girls.

Hindi sex story, Hyderabad Call Girls मुझे फोन पर नई-नई लड़कियों से बात करने का बड़ा शौक है शायद मेरी मानसिकता ही बन चुकी है कि जब तक मुझे कोई नया माल नहीं मिलता तब तक मुझे चैन नहीं आता। मुझे नई नई लड़कियों को फोन पर मैसेज करना बड़ा अच्छा लगता है। अब तक मैंने 100 से ऊपर लड़कियों को फोन के माध्यम से ही फसाया है और उनके साथ बड़ी सेक्सी बातें की है। मुझे उन लोगों के साथ हॉट बातें करना बड़ा पसंद है मुझे सिर्फ सेक्सी बातें करना ही पसंद है मैं आपको अपने बारे में जानकारी देता हूं, मैं एक इंजीनियर हूं मुझे जॉब करते हुए करीब 3 साल हो चुके हैं घर में मेरे माता-पिता और दो बहने हैं। मेरी दोनों बहनों के भी बॉयफ्रेंड है वह उनके साथ खूब गरमा-गरम बात करती हैं, मुझे नई नई लड़कियों के साथ फोन में सेक्स करने मे बड़ा मजा आता है। अभी पिछले महीने की ही बात है जब मैंने एक दिन मैसेज पायल को कर दिया पहले तो वह बड़ी भाव खा रही थी लेकिन फिर उसने भी मुझसे बात करना ही ठीक समझा। मैं आप लोगों को बताता हूं कैसे हम लोगों की बात शुरू हुई और कैसे बात बढ़ते बढ़ते बड़ी गरमा गरम हो गई। मैंने मैसेज किया तो पायल ने पहले तो इग्नोर कर दिया और उसका रिप्लाई नहीं आया लेकिन जब उसने मुझे रिप्लाई किया तो हम दोनों की बात शुरू हो गई।

Secunderabad Escorts Call Girls

नौकर के बेटे ने मुझे बजा दिया- Hyderabad Escorts

हाय मेरे प्यारे दोस्तों और मेरे चाहने वालों | मैं आपकी रागिनी अग्रवाल | मुझे मेरे पति चोदते तो है लेकिन मेरी वासना उनकी चुदाई से ज्यादा है | मेरे पति का लंड छोटा है और मेरी चूत को अन्दर तक नहीं चोद पाता | मैं इसलिए बाहर की दुनिया में सैक्स की तलाश में घूमती रहती हूँ और कई बार मुझे ऐसे लोग मिले भी लेकिन मेरे साथ ज्यादा टिक नहीं पाए और मुझे छोड़ के चले गए | अगर आपको लगता है कि आप मेरी अगन बुझा सकते हो तो आप मेरे पास आ सकते हो | चलिए अब मैं आपको अपनी रोचक कहानी बताती हूँ जिसमे मैंने अपने नौकर से चुदवाया था |

ये बात है दो साल पहले की जब मेरे पति को काम के सिलसिले में बाहर जाना था एक महीने के लिए और मैं ये सोच रही थी कि अब मुझे एक महीने तक चुदाई करने नहीं मिलेगी | मेरे घर में एक बुढा सा नौकर था उसका नाम था ननकू | ननकू की तबियत अचानक ख़राब हो गई और उसने मेरे घर में काम करने के लिए अपने बेटे को गाँव से बुला लिया | उसका नाम था ज्ञानेंद्र सब उसे गन्नू बुलाते थे | वो गाँव में खेती करता था लेकिन बहुत पतला था शरीर से | उसकी शकल से वो बहुत भोला सा लग रहा था | मुझे लगा ये किस काम का है अगर ये किसी को चोदे तो उसे ज्यादा देर तक चोद भी न पाए |

मेरे पति जा चुके थे और अब घर में मैं और गन्नू ही रहते थे | मुझे लगता था गन्नू बहुत शर्मीला है क्योंकि वो हमेशा सिर झुकाके बात करता था और मैं जो भी करने को कहती थी चुपचाप कर देता था | लेकिन वो बहुत चालू था सर झुका कर वो मेरे दूध देखता रहता था | गन्नू हमारे घर में ही रहता था और वहीँ खाता और सोता था | एक बार गन्नू बाहर नल में सटक लगा के नाहा रहा था | मैं अन्दर खड़ी थी और उसे देख रही थी | तभी गन्नू ने पानी बंद किया और तौलिया से खुद को पोंछने लगा | उसने पुरे कपडे उतार दिए थे और सिर्फ तौलिया लपेट रखी थी | तभी उसकी तौलिया खुल गई और नीचे गिर गई और एक पल के लिए वो नंगा हो गया |

मेरी नज़र उसके लंड पे पड़ी और मैं हैरान रह गई | उसका लंड अभी सोया हुआ था फिर भी मेरे पति के खड़े लंड से बड़ा लग रहा था और मोटा भी | उसने जल्दी से अपनी तौलिया उठाई और अपने ऊपर लपेट ली और यहाँ वहां देखने लगा | अब मैं गन्नू की ओर आकर्षित होने लगी थी और उसके लंड लंड की प्यासी बन गई थी | मैं अब गन्नू को छूने के बहाने ढूढंती रहती थी और कभी कभी उसको भी पकड़ लेती थी | हम कभी कभी शाम को खेलते भी और मैं उसका फायदा उठा लेती थी |

escorts service in kanpurजॉब के चक्कर में मिली टाइट चूत | Hyderabad Escorts

मेरा नाम मोहन है। मैं एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करता हूं। मेरी उम्र 25 वर्ष है। मैंने यहां पर ए महीने पहले ही ज्वाइन किया था। मैं धीरे-धीरे सब लोगों से परिचित होने लगा था। मैं मुजफ्फरनगर का रहने वाला हूं ऑफिस में जो हमारे बॉस हैं वह काफी सख्त है। काम के प्रति वह बिल्कुल भी नहीं चाहते कि उनके काम में किसी भी तरीके से कोई भी व्यवधान आए और वह अपना काम अच्छे से करते रहते हैं। यदि किसी से कोई गलती हो जाए तो वह उसे बहुत ही बुरी तरीके से डांट देते हैं। सब लोग उनसे ऑफिस में बहुत ही डरते हैं और उनके पास जाने से बचते हैं। कहीं उनका नंबर ना आ जाए और उन्हें डांट पड़ जाए। इस वजह से हमारे साथ के जितने भी लोग हैं। वह सब अपने काम को अच्छे से करते हैं ताकि उसमें किसी भी प्रकार से कोई भी कमी ना रह जाए। यदि कोई कमी रह जाती है तो उन्हें मालूम है कि हमारे बॉस उनकी क्या हालत करेंगे।

यह बात मैं भी भली भांति जानता हूं इसीलिए मैं कभी भी अपनी तरफ से ऐसी कोई गलती नहीं करता। जिससे कि मेरे बॉस को कोई शिकायत का मौका मिले और वह मुझे कुछ बातें सुनाए मैं हमेशा सोच समझ कर अपने काम को करता हूं और अपने काम में पूरा ध्यान लगाता हूं। हमारे ऑफिस में काफी सारा काम रहता है। हमारे ऑफिस में ही बहुत सारा स्टाफ है। जो हमारे बॉस है ना जाने कब किस को नौकरी से निकाल दे। यह भरोसा नहीं है इसीलिए वह हमेशा किसी ना किसी को नौकरी से निकालते रहते हैं। वहां पर नहीं ज्वाइनिंग होती रहती है।

इस बार भी एक लड़की हमारे ऑफिस में आई जिसका नाम सुनीता है। उसे भी बॉस ने पहले ही सब कुछ बता दिया कि यदि काम में कोई कमी होती है तो तुम्हें ऑफिस से निकाल दिया जाएगा। उसका पहला दिन था तो वह ऑफिस में अच्छे से तैयार होकर आई थी। मेरी बगल वाली सीट में बैठी हुई थी। मैंने उससे उसका नाम पूछा उसने अपना नाम मुझे बताया। मैंने उससे पूछा क्या तुमने नया ज्वाइन किया है। वो कहने लगी हां मैंने नया ज्वाइन किया है। मैं उसे सब कुछ बताता गया कि ऑफिस में थोड़ा ध्यान से रहना क्योंकि यदि किसी भी काम में भी कमी दिखाई देती है। तो वह बहुत ही बुरी तरीके से डांटते हैं। जिससे कई बार नौकरी जाने का भी खतरा बना रहता है। वह कहने लगी ठीक है। यह कहते हुए उसने भी अपना काम शुरू कर दिया और मैं भी अपने कंप्यूटर में अपने काम पर लग गया।

समय बीतने के साथ ही उस लड़की से मेरी मुलाकात हमेशा ऑफिस में ही हो जाती वह भी मुझसे अच्छे से बात करने लगी। हम दोनों एक दूसरे से काफी अच्छी तरीके से परिचित हो चुके थे। हम एक अच्छे दोस्त बन गए थे। हमारे ऑफिस में एक पीयून था। जो हमें बॉस की सारी खबर देता रहता था कि किसकी शामत आने वाली है। वह बड़ा ही मजेदार आदमी था। मैंने उससे कहा तुम्हें ऑफिस में सब के बारे में जानकारी रहती है तो तुम मुझे बता दिया करो।

मैंने उसे अपने दिल की बात बताई और कहा कि मुझे सुनीता से अपने दिल की बात कहनी है। उसने मेरी दिल की बात पहुंचा दो और कहने लगा ठीक है जैसा आप कहें और मैंने कुछ पैसे दिए उसे।

एक दिन कह दिया कि कहीं घूमने निकल पड़ते हैं वो कहने लगी मेरे पास तो समय नहीं है। ऑफिस से घर जाती हूं और घर से ऑफिस आता हूं। मुझे समय बिल्कुल भी नहीं मिल पाता है। इस वजह से घूमने का प्लान कैंसिल ही कर दो। मैंने उसे कहा ठीक है कोई बात नहीं हम लोग कुछ और देखते हैं। हम लोग ऑफिस में ही बैठ कर टाइम पास कर लेते थे। जब थोड़ा बहुत समय मिलता था। एक दूसरे के साथ समय बिता लिया करते थे।