Hot & Sexy Story In Hyderabad Escorts

Hyderabad Escorts

ट्रेन में बिना टिकट पकड़ी गयी- Hyderabad Call Girls

Hyderabad Call Girls –  हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम परी है | मेरी उम्र 26 साल की हूँ और मैं जबलपुर की रहने वाली हूँ | मैं दिखने में ठीक ठाक हूँ पर मेरा फिगर गदराया हुआ है | मै एक शादीशुदा महिला हूँ और मेरे दो बच्चे है जिनमे से एक लड़का 5 साल का है और बेटी 7 साल की है | दोस्तों, आज जो मैं आप लोगों को कहानी बताने जा रही हूँ ये मेरी जीवन की पहली कहानी और आखरी भी | क्यूंकि ये मेरी सच्ची घटना है जो मैं किसी को भी बता नहीं सकती थी | इस कहानी के माध्यम से मैं अपने दिल का बोझ हल्का करना चाहती हूँ इसीलिए मैं ये कहानी आप सभी के सामने पेश कर रही हूँ | तो अब मैं आप लोगों का ज्यादा टाइम न लेते हुए सीधा कहनीं में आती हूँ |

ये घटना आज से दो साल पहले की है | जब मेरे पति जो कि दिल्ली में जॉब करते हैं उनकी तबियत ख़राब हो गयी थी अचानक से | तब मेरा बेटा 3 साल का था और बेटी 5 साल की थी | मेरे पति को अचानक से काम का दौरान ही हार्ट अटैक आ गया था | जब वो अस्पताल में भर्ती हुए और तब मेरे पास कॉल आया तब मुझे कुछ भी नहीं समझ में आया कि मैं क्या करू ? तो मैंने जल्दी जल्दी में सामान बांधा और अपने बच्चो को ले कर सीधा स्टेशन की ओर चली गयी | गर्मी का टाइम था और आप सभी जानते हैं कि गर्मी का समय तुरंत ही जनरल डब्बे की टिकट लेना भी कितना मुश्किल होता है | मैं बहुत देर से लाइन में लगी थी कि मुझे टिकट मिल जाये पर ट्रेन का टाइम हो चुका था | तो मैंने सोचा कि अब बिना टिकट के ही मुझे सफ़र करना पड़ेगा | Hyderabad Escorts

Kavya Hyderabad Escorts Serviceतो मैंने अपने बच्चो से झूट कहा कि हमे टिकट मिल गयी है और हम सीधा ट्रेन में चढ़ गये | स्लीपर डब्बे में जा कर मैंने बड़े दिमाग के साथ अपना सारा सामान रख दिया | पर मुझे ये पता था कि जिसकी ये सीट होगी वो अपनी सीट तो ले ही लेगा | पर तब भी मैं उस सीट से नहीं हिली मुझे डर भी लग रहा था और जी भी घबरा रहा था | पर मैं हिम्मत नहीं हार रही थी | उस दिन शायद मेरी किस्मत ही थी कि कोई नहीं आया था उस सीट पर | फिर रात के 12 बजे करीब की बात है | टी.सी. वहां सबकी टिकट चेक कर रहा था और मुझे इस बात का जरा भी ध्यान नहीं था कि मैं पकड़ी जा सकती हूँ | क्यूंकि मेरे पास कोई आई.डी प्रूफ नही था और होता भी तो क्या कौनसा वो सीट मेरे नाम पर थी | टी.सी मेरे पास आया और मुझसे टिकट के लिए पूछा | तो मैंने कहा सर मेरे पास कोई टिकट नहीं है | ऐसा नहीं है कि मैं टिकट नहीं ले सकती थी सब कुछ इतना जल्दी में हुआ कि मुझे यही रास्ता सही लगा | उतने में उसने मुझसे कहा कि मैडम देखिये इसमें मैं कुछ नहीं कर सकता हूँ क्यूंकि जो मेरी ड्यूटी है वो तो मुझे करनी ही पड़ेगी | आप को टिकट देना ही होगा नहीं तो हर्जाना भरना पड़ेगा | यदि आप वो भी नहीं कर सकती तो मैं आप को अगले किसी भी स्टेशन में उतार दूंगा | मैंने बहुत उससे मिन्नतें की वो ऐसा न करे और मुझे माफ़ कर दे | मैंन उनसे सारी बाते बता चुकी थी पर उन्हें कोई ज्यादा फर्क ही नहीं पड़ा था | तो उन्होंने मुझसे कहा कि अकेले में आइये | तो मैं दरवाजे के पास गयी उनके साथ मेरे बच्चे सो रहे थे इसलिए मुझे कोई दिक्कत नहीं हुई |

‘मैं एक सेक्स वर्कर हूं, ये बात सिर्फ अपनी बेटी को बताई है ताकि…’ Hyderabad Housewife Escorts

उस सेक्स वर्कर की कहानी, जिसने अपने परिवार को चलाने के लिए कई वर्षों तक जिस्मफरोशी की.. और एक दिन उसने एक दिन ये बात अपनी बेटी को बताई.. फिर “हमें बुलाने वाले ज्यादातर लोग उम्रदराज, रिटायर्ड लोग होते हैं, लेकिन सबकी चाहत 16 साल की लड़की की होती है। यहां लड़की की उम्र, उसकी फिटनेस और रंग के हिसाब से पैसे मिलते हैं। औसतन 200 से 2000 तक रुपए एक बार के मिलते हैं।” किरन, धंधे की परते खोलती हैं। (किरन की पहचान छुपाने के लिए उनका नाम बदला गया है)

हम लाख शारीरिक संबंधों की बात पर अपनी नज़रें झुकाकर संस्कारी बनने का ढोंग करें, लेकिन सच तो यही है कि इस शर्म के चलते ही आज हम जनसंख्या फिस्फोट के दौर में जी रहे हैं|

रीना होशियार है, कामयाब है उसे पता है उसे क्या चाहिए और उसे पता है अपनी जिंदगी अपने तरीके से जीने के लिए पति से कैसे बचना है| वो दो स्वार्थी आदमियों (पति और बॉयफ्रेंड) के बीच झूलती अपनी पहचान, अधिकार और खुशी ढूंढती है और अंत में बेबाकी से अपने पति को अपने एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयर के बारे में बताती है| इसपर उसके पति का व्यवहारिक रवैया भी सराहनीय है, जब वो ठंडे दिमाग से अपनी पत्नी की बात को सुनता है और समझता है|

Anisha Hyderabad Escorts Service

मैंने दोनों को, डॉक्टर को और कामवाली औरत उनके घर के अन्दर के कमरे में देखा जिसका दरवाजा खुला था और मुझे सब साफ़ साफ़ दिखाई दे रहा था. डॉक्टर कुर्सी पर बैठा कुछ पढ़ रहा था और कामवाली कमरे की सफाई कर रही थी. डॉक्टर ने उसको कुछ कहा तो वो काम छोड़ कर आलमारी की तरफ गई और मैंने देखा की उस के हाथ में कुछ कपडे थे. उन कपड़ों को लेकर वो कमरे के अन्दर ही बाथरूम में चली गई. जब वो थोड़ी देर बाद वापस आई तो मैंने देखा की वो एक बहुत सुन्दर, गुलाबी रंग की ब्रा और चड्डी पहने हुए थी. शायद ये डॉक्टर की तरफ से कामवाली को तोहफा था और जरूर ही डॉक्टर ने उसको पहन कर दिखने को कहा था. वो एक टक उस को देख रहा था. जैसा की मैंने लिखा है की कामवाली सुन्दर थी, उस की भरी भरी चूचियां और भारी गांड उस गुलाबी रंग की ब्रा और चड्डी में बहुत सेक्सी लग रही थी. वो बातें कर रहे थे और वो डॉक्टर की तरफ बढ़ी. दोनों आपस में होठों का चुम्बन करने लगे और मेरा सोचना ठीक था की दोनों में चुदाई का रिश्ता था. मेरे लिए उन को देखना टाइम पास करने का अच्छा साधन था. वो दोनों अलग हुए और उस ने फिर से कमरे की सफाई करनी शुरू करदी. मैंने सोचा की शायद इतना ही होगा, पर मैं गलत थी. हलकी हलकी बरसात फिर से शुरू हो गई थी. वो अपनी सेक्सी कामवाली को ब्रा और चड्डी पहने काम करते देखता रहा और वो बातें करते रहे. जब वो उस के करीब से गुजरी तो डॉक्टर ने उस की भरी भरी चुचियों को दबा दिया. वो हंस पड़ी. अब डॉक्टर ने उस के पैरों के बीच हाथ डाल कर कुछ किया तो वो हवा में उछल पड़ी. जरूर डॉक्टर ने कामवाली की चूत में या गांड में ऊँगली की थी. वो उसकी तरफ देखती हुई फिर से हंस पड़ी. वो उस के पास आ कर खड़ी हुई तो डॉक्टर ने बैठे बैठे उस को कस कर पकड़ लिया. वो खड़ी थी वो प्यार से डॉक्टर के सिर के बालों में हाथ फिरा रही थी. डॉक्टर का सिर उस की भरी भरी चुचियों के बीच था और वो अपना चेहरा उस की चुचियों पर ब्रा के ऊपर से रगड़ रहा था. उस के हाथ उस की मोटी गांड को दबा रहे थे. उसने अपने हाथ से अभी अभी कामवाली को तोहफे में दी गई ब्रा की दोनों पट्टियाँ, बिना हुक खोले, उस के कंधे से नीचे करदी. कामवाली ने अपने हाथ नीचे करके ब्रा की पट्टियों से निकाल लिए और डॉक्टर ने उसकी ब्रा को नीचे पेट की तरफ करके उस की चुचियों को नंगा कर दिया. उस की गुलाबी ब्रा उसकी गुलाबी चड्डी से मिल रही थी और उस की बड़ी बड़ी चूचियां डॉक्टर के सामने थी डॉक्टर कामवाली की नंगी चुचियों पर अपना चेहरा रगड़ रहा था और उस ने उसकी एक निप्पल अपने मुंह में ले ली. उन लोगों की गर्मी मुझ में भी आने लगी. मेरी चूत में भी उन को देख कर हलचल मचने लगी. वो एक के बाद कामवाली की चूचियां और निप्पल किसी भूखे की तरह चूसता जा रहा था. कामवाली का सिर भी चूचियां चुसवाते हुए आनंद से आगे पीछे हिल raha था. मैं उन को देख कर मज़ा ले रही थी और आप तो जानतें ही है के मैं कितनी सेक्सी हूँ और जो मैं देख रही थी वो मुझे उत्तेजित करने के लिए काफी था. मेरी जीन के अन्दर मेरी चड्डी गीली होने लगी और अपने आप ही मेरी उँगलियाँ मेरी जीन के ऊपर से ही जहाँ मेरी चूत थी, वहां पर फिरने लगी.